मैं लिख रही हूँ ये चन्द बातें

ज़माने भर का वज़न उठा कर मैं लिख रही हूँ ये चन्द बातें

जो सच है उससे नजर बचा कर, मैं लिख रही हूँ ये चन्द बातें

हमारे सीने में जो धड़कता है तुमने उसको न दिल है माना

उसी की धड़कन हरफ़ बना कर , मैं लिख रही हूँ ये चन्द बातें

जनाबे मन तुम उसूल अपने लिये बना कर अलग रखे हो

छुपी जो बातें, उन्हें जता कर, मैं लिख्र रही हूँ ये चन्द बातें

नजर की शाबासियां उठाये ,यही है दरकार हर नजर को

इसी से अपनी नजर चुरा कर, मैं लिख रही हूँ ये चन्द बातें

यों वाकये हैं हज़ार लेकिन, सभी तो बनते नहीं कहानी

उन्हीं में से कुछ सजा सजा कर, मैं लिख रही हूँ ये चन्द बातें

नकाब डाले छुपा रहे हैं मगर न जाने क्या, ये न जाना

नकाब अपनी सभी हटा कर, मैं लिख रही हूँ ये चन्द बातें

जो लफ़्ज़ होते सुखनवरी के, रहे हैं वे अजनबी सदा ही

जो नक्शे- पा हैं, उन्हें उठाकर, मैं लिख रही हूँ ये चन्द बातें

Advertisements