मौसम सदा सुहाना होगा

 
 

शिकवा करते हो शोलों के दरिया में से जाना होगा
किसने तुम से कहा प्यार का मौसम सदा सुहाना होगा
 
उनसे अगर मुख्तलिफ़ हों तो ख़तावार समझे जाते हैं
इश्क ख़ता है उनकी नजरों में, भरना हर्जाना होगा
 
उल्फ़त के चिराग रोशन हैण गुलदस्ते के पहलू में अब
जिसने नहर निकाली वो तो सचमुच ही दीवाना होगा
 
पत्थर की मूरत को छप्पन भोग, आदमी को दो टुकड़े
जो देता, क्या सच में उसका ईश्वर से याराना होगा
 
वज़्मे सुख़न के काबिल मिसरा देती नहीं कलम अब कोई
बिखरेंगे अशआरजहाँ जाकर मेरे, वीराना होगा

Advertisements

7 Responses

  1. शिकवा करते हो शोलों के दरिया में से जाना होगा
    किसने तुम से कहा प्यार का मौसम सदा सुहाना होगा

    उनसे अगर मुख्तलिफ़ हों तो ख़तावार समझे जाते हैं
    इश्क ख़ता है उनकी नजरों में, भरना हर्जाना होगा

    aji waah behtarin,lajawab,kya kahun shuruwat mein hi dil jeet liya,sunder prastuti badhai.

  2. बहुत ही सुन्दर ……..मौन हूँ पढकर …..अतिसुन्दर

  3. BAHUT HEE SASHAKT RACHNA HAI. PAR AAPNE APNE AAP KO ITNA GOPNEEY KYON RAKHA HAI

  4. Arunima Ji,
    Aap likhtin hain par yahan post nahin kartin apni nayi ghazalein? Ab aapki latest ghazal padhni ho toh ekavita mein use khoob dhoondhna padega :(. Post kar diya keejiye an yahan bhee unhein 🙂
    Sadar,
    Shardula

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: